मेटावर्स में कौन रहेगा? केवल अमीर [Is the Metaverse only for the rich?]

जब अच्छे इंटरनेट कनेक्शन के लाले पड़े हों तो कोई मेटावर्स में क्या खाक इंजॉय करेगा. ऊपर से करे भी कैसे अगर पहले हजारों रूपये VR हेडसेट और दूसरे गैजेट्स खरीदने में लगाने पड़ें. यानि कुल मिला के इस वर्चुअल…
0
(0)

जब अच्छे इंटरनेट कनेक्शन के लाले पड़े हों तो कोई मेटावर्स में क्या खाक इंजॉय करेगा. ऊपर से करे भी कैसे अगर पहले हजारों रूपये VR हेडसेट और दूसरे गैजेट्स खरीदने में लगाने पड़ें. यानि कुल मिला के इस वर्चुअल दुनिया में भी अमीरों की ही मौज है. देखिए कि ऐसा क्यों हो रहा है.
Author: Janek Speigth
Adaptation: Ritika Pandey

#dwdigital #dwhindi
Will a digital divide be clearer after the launch of Zuckerberg’s varying headset range for the metaverse?
Mark Zuckerberg is gaining traction with his new venture into the Metaverse. The Meta CEO recently presented a range of VR & AR headset prototypes which vary in both style and price. But does this mean a clearer digital divide between the rich and the poor?

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?